Wednesday, 24 May 2017

भीम सेना

#Conspiracy

भाई से भाई को लड़ाने, और हिंदुओं को 2019 से पहले बाँटने की अदभुत साज़िश -

१) सहारनपुर में महाराणा प्रताप सेना बनाने वाला कर्ण सिंह राजपूत सपा का नेता! और भीम सेना बनानेवाला चंद्रशेखर, बसपा का नेता।

२) दुधवा बस्ती, जो मुस्लिम बहुल क्षेत्र जिसमे कभी भी अम्बेडकर शोभा यात्रा दलितों को नही निकालने दिया गया, जिसको इस साल लखनपाल,बीजेपी के नेता के द्वारा दलितों के साथ निकाला जिसमे मुस्लिमों ने दलितों के साथ दंगा
किया, घर जलाया, पत्थरबाजी, आगजनी और गोली चलाई, जिसमे 6 दलित मारे गए, पर भीम सेना के चंद्रशेखर ने दलितों के बीच एक notice घुमाकर सबको शांत रहने के लिए बोला।

३) फिर करण सिंह, सपा के नेता ने इस बार महाराणा प्रताप की जयंती पर जानबूझकर दलितों की बस्ती से जूलूस निकाला, जिसमे दलित राजपूत का दंगा
हुआ... फिर भीम सेना के चंद्रशेखर ने दलितों को एक करके भीम सेना बनाकर राजपूतों के बिरुद्ध जंतर मंतर पर धरना प्रदर्शन किया।

४) अब कल मायावती ने सहारनपुर जाकर दलितों की रैली की, और रैली से लौटते वक्त इस भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने राजपूतों के घरों पर हमला किया और आग लगाने की कोशिश की, जिसमें राजपूतों की तरफ से जवाबी हमला हुआ और भीम आर्मी के 4 गुंडे गम्भीर रूप से घायल और 1 जान से मारा गया.

और अब मीडिया इसे "बेचारे दलितों" पर हमला बनाकर पेश कर रही है...

PMO India Amit Shah Rajnath Singh जी... समय रहते संभल जाएँ... अंदर ही अंदर बहुत सारे गेम चल रहे हैं... विकास-इकास तो होता रहेगा अपनी रफ़्तार से... पहले देश को तोड़ने वालों को निपटाएं... 2019 में इसी धूर्त और नीच किस्म के "विपक्षी गठबंधन" से मुकाबला है, ध्यान रहे...

===============

Monday, 22 May 2017

दुनिया का सबसे बड़ा दुख

"दुनिया का सबसे बड़ा दुख"


कूलर मे दस बाल्टी पानी डालने के बाद लाइट चली जाये 🤕😨

😂😂😜😜

Mobile codes for imei and more

¶मोबाइल  से  जुडी  कई  ऐसी  बातें  जिनके  बारे  में  हमें  जानकारी  नहीं  होती  लेकिन  मुसीबत  के  वक्त  यह  मददगार  साबित  होती  है ।


         इमरजेंसी नंबर ---

            दुनिया  भर  में  मोबाइल  का  इमरजेंसी  नंबर  112  है । अगर  आप  मोबाइल  की  कवरेज  एरिया  से  बाहर  हैं
 तो  112  नंबर  द्वारा  आप  उस  क्षेत्र  के  नेटवर्क  को  सर्च  कर  लें। ख़ास  बात  यह  है  कि  यह  नंबर  तब  भी  काम  करता  है  जब  आपका  की  पैड  लौक  हो। 


             जान  अभी  बाकी  है---

               मोबाइल  जब  बैटरी  लो  दिखाए  और  उस  दौरान  जरूरी  कॉल  करनी  हो, ऐसे  में  आप  *3370#  डायल  करें । आपका  मोबाइल  फिर  से   चालू  हो  जायेगा और  आपका  सेलफोन  बैटरी  में  50  प्रतिशत  का  इजाफा  दिखायेगा। मोबाइल  का  यह  रिजर्व  दोबारा  चार्ज  हो  जायेगा  जब आप  अगली  बार  मोबाइल  को  हमेशा  की  तरह  चार्ज  करेंगे। 


           मोबाइल  चोरी  होने पर---

              मोबाइल  फोन  चोरी  होने  की स्थिति  में  सबसे  पहले  जरूरत  होती  है,  फोन  को  निष्क्रिय  करने  की  ताकि  चोर  उसका  दुरुपयोग  न  कर  सके । अपने  फोन  के  सीरियल  नंबर  को  चेक  करने  के  लिए  *#06#  दबाएँ । इसे  दबाते  ही  आपकी  स्क्रीन  पर  15  डिजिट  का  कोड  नंबर  आयेगा। इसे  नोट  कर  लें  और  किसी  सुरक्षित  स्थान  पर रखें। जब  आपका  फोन  खो  जाए  उस  दौरान  अपने  सर्विस  प्रोवाइडर  को  ये  कोड  देंगे  तो  वह  आपके  हैण्ड  सेट  को  ब्लोक  कर  देगा।


             कार की चाभी खोने पर ---

             अगर  आपकी  कार  की  रिमोट  की लेस  इंट्री  है। और  गलती  से  आपकी  चाभी  कार  में  बंद  रह  गयी  है। और दूसरी  चाभी  घर  पर  है। तो  आपका  मोबाइल  काम  आ  सकता  है। घर  में  किसी  व्यक्ति  के  मोबाइल  फोन  पर  कॉल  करें। घर  में  बैठे  व्यक्ति  से  कहें  कि  वह  अपने  मोबाइल  को  होल्ड  रखकर  कार  की  चाभी  के  पास  ले जाएँ और  चाभी  के  अनलॉक बटन  को  दबाये। साथ  ही  आप  अपने  मोबाइल  फोन  को  कार  के  दरवाजे  के  पास  रखें....। दरवाजा खुल जायेगा।

है न विचित्र किन्तु सत्य......!!!

अधिक से अधिक शेयर करें।
एंड्राइड मोबाइल यूजर के काम के कोड
1. Phone Information, Usage and Battery – *#*#4636#*#*

2. IMEI Number – *#06#

3. Enter Service Menu On Newer Phones – *#0*#

4. Detailed Camera Information –*#*#34971539#*#*

5. Backup All Media Files –*#*#273282*255*663282*#*#*

6. Wireless LAN Test –*#*#232339#*#*

7. Enable Test Mode for Service –*#*#197328640#*#*

8. Back-light Test – *#*#0842#*#*

9. Test the Touchscreen –*#*#2664#*#*

10. Vibration Test –*#*#0842#*#*

11. FTA Software Version –*#*#1111#*#*


बड़े काम के कोड है इसलिए शेयर करे और दुसरो को भी बताये !

Sunday, 21 May 2017

गणित का सूत्र

एक राजा ने बहुत ही सुंदर ''महल'' बनावाया और महल के मुख्य द्वार पर एक ''गणित का सूत्र'' लिखवाया और एक घोषणा की कि इस सूत्र से यह 'द्वार खुल जाएगा और जो भी इस ''सूत्र'' को ''हल'' कर के ''द्वार'' खोलेगा में उसे अपना उत्तराधीकारी घोषित कर दूंगा।
राज्य के बड़े बड़े गणितज्ञ आये और सूत्र देखकर लोट गए, किसी को कुछ समझ नहीं आया। आख़री दिन आ चुका था उस दिन 3 लोग आये और कहने लगे हम इस सूत्र को हल कर देंगे। उसमे 2 तो दूसरे राज्य के बड़े गणितज्ञ अपने साथ बहुत से पुराने गणित के सूत्रो की पुस्तकों सहित आये। लेकिन एक व्यक्ति जो ''साधक'' की तरह नजर आ रहा था सीधा साधा कुछ भी साथ नहीं लाया था। उसने कहा मै यहां बैठा हूँ पहले इन्हें मौक़ा दिया जाए। दोनों गहराई से सूत्र हल करने में लग गए लेकिन द्वार नहीं खोल पाये और अपनी हार मान ली। अंत में उस साधक को बुलाया गया और कहा कि आपका सूत्र हल करिये समय शुरू हो चुका है। साधक ने आँख खोली और सहज मुस्कान के साथ 'द्वार' की ओर गया। साधक ने धीरे से द्वार को धकेला और यह क्या? द्वार खुल गया, राजा ने साधक से पूछा - आप ने ऐसा क्या किया? साधक ने बताया जब में 'ध्यान' में बैठा तो सबसे पहले अंतर्मन से आवाज आई, कि पहले ये जाँच तो कर ले कि सूत्र है भी या नहीं। इसके बाद इसे हल ''करने की सोचना'' और मैंने वही किया! कई बार जिंदगी में कोई ''समस्या'' होती ही नहीं और हम ''विचारो'' में उसे बड़ा बना लेते हैं।
हर समस्या का उचित इलाज आपकी ''आत्मा'' की आवाज है!

Kulbhushan Jadhav want Freedom

I am eagerly waiting for a candle light march from JNU students union in support of Kulbhushan Jadhav who has got stuck in lawless Pakistan.

I am also expecting Kanhaiya Kumar to come out and shout slogan for "Azadi" of Kulbhushan Jadhav.

I AM also waiting for all those politicians and journalists who were in the forefront not so long ago...

Also waiting for the greatest political pimps like Kejrival, shasi and prashant bhushan, Garibon ka case free me लड़ने वाला Jethmalani. 

The list is long from Kanhaiya at one end to Barkha dutt at another.

आज वो आजादी-आजादी चिल्लाने वाले भाड़े के छात्र नज़र नहीं आ रहे जब एक बेकसूर को सच में आजादी दिलानी है तो...😠 #कुलभूषण_की_फाँसी_रोको

👉👉 अभी में बैठा बैठा सर्च कर रहा था कि पाकिस्तान में भी कोई प्रशांत भूषण, केजरीवाल हैं क्या जो कुलभूषण जाधव के लिए रात के 3 बजे पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट खुलवा दें...

रिज़ल्ट आया "नहीं भाई ऐसे हरामखोर और राष्ट्र द्रोही सिर्फ भारत में ही रहते है.......

क्यों न उन 21 वकील को उठाकर लाहौर फेंक दिया जाए जो कसाब के लिए आधी रात को 2:00 बजे सुप्रीम कोर्ट खुलवाने गए थे ताकि वो कुलभूषण का केस लड़ सके और मानवता को बचा सके। 😡😡

कहाँ गया तुम्हारा फवाद
कहाँ गया राहत फ़तेह अली खान
कहाँ गयी अमन की आशा
क्या उन सफ़ेद कबूतरों के टिक्के बना के खा लिए तुमने..

याकूब मेनन की सज़ा रोकने के लिए दया याचिका में हस्ताक्षर करने वाले उन देशद्रोही_कुत्तों को बता दूँ, पाकिस्तान में कुलभूषण के लिए किसी ने दया याचिका दायर नहीं की है...😠

और कहाँ गयी वो लड़की जो कहती थी कि "pakistan did not kill my dad, the war did"

अजीब है। अब कोई नहीं बोलेगा...
ज़ावेद अख्तर भी चुप है अब तो...

Pl. circulate if you agree with us.

Saturday, 20 May 2017

कट्टरपंथी

किसी फोटो में पत्नी के *दायें और बाएं* खड़ी उसकी दो *सुंदर सहेलियों* में से आप जिसे ज्यादा देखते हैं।

उससे आपकी *विचारधारा* स्पष्ट होती है...कि आप *दक्षिणपंथी* हैं या *वामपंथी।*

लेकिन यदि आप दोनों *सुन्दर सहेलियों* को अनदेखा कर , सिर्फ अपनी *पत्नी* को देखते हैं तो आप ...

*"कट्टरपंथी"* हैं :

"😝""😝""😂""😂"

हर सफल आदमी के पीछे एक औरत होती है

अब तसल्ली है !!!

PM भी सिंगल..
CM भी सिंगल..
TATA भी सिंगल..
Salman,yogi,
और तो और 
बाबा रामदेव भी सिंगल !!

निगाहें अब उस हरामखोर को ढूँढ रही है, जिसने कहा था :-

*'हर सफल आदमी के पीछे एक औरत होती है'*

😂 उस बेवकुफ के चक्कर  मे हमने शादी कर ली,,,,,😆😆😆

Medical knowledge

*हृदयाघात तथा गर्म पानी पीना*

यह भोजन के बाद गर्म पानी पीने के बारे में ही नहीं हृदयाघात के बारे में भी एक अच्छा लेख है। चीनी और जापानी अपने भोजन के बाद गर्म चाय पीते हैं, ठंडा पानी नहीं। अब हमें भी उनकी यह आदत अपना लेनी चाहिए। जो लोग भोजन के बाद ठंडा पानी पीना पसन्द करते हैं यह लेख उनके लिए ही है। 

भोजन के साथ कोई ठंडा पेय या पानी पीना बहुत हानिकारक है क्योंकि ठंडा पानी आपके भोजन के तैलीय पदार्थों को जो आपने अभी अभी खाये हैं ठोस रूप में बदल देता है। इससे पाचन बहुत धीमा हो जाता है। जब यह अम्ल के साथ क्रिया करता है तो यह टूट जाता है और जल्दी ही यह ठोस भोजन से भी अधिक तेज़ी से आँतों द्वारा सोख लिया जाता है। यह आँतों में एकत्र हो जाता है। फिर जल्दी ही यह चरबी में बदल जाता है और कैंसर के पैदा होने का कारण बनता है। 

इसलिए सबसे अच्छा यह है कि भोजन के बाद गर्म सूप या गुनगुना पानी पिया जाये। एक गिलास गुनगुना पानी सोने से ठीक पहले भी पीना चाहिए। इससे खून के थक्के नहीं बनेंगे और आप हृदयाघात से बचे रहेंगे। 

एक हृदय रोग विशेषज्ञ का कहना है कि यदि इस संदेश को पढ़ने वाला प्रत्येक व्यक्ति इसे १० लोगों को भेज दे, तो वह कम से कम एक जान बचा सकता है। 

*Dr. Naresh Trahan*
(HEART SPECIALIST)
Medanta Hospital 
Gurgaon HR

Forwarded Massage....

How to make heart healthy

*हृदयाघात तथा गर्म पानी पीना*

यह भोजन के बाद गर्म पानी पीने के बारे में ही नहीं हृदयाघात के बारे में भी एक अच्छा लेख है। चीनी और जापानी अपने भोजन के बाद गर्म चाय पीते हैं, ठंडा पानी नहीं। अब हमें भी उनकी यह आदत अपना लेनी चाहिए। जो लोग भोजन के बाद ठंडा पानी पीना पसन्द करते हैं यह लेख उनके लिए ही है। 

भोजन के साथ कोई ठंडा पेय या पानी पीना बहुत हानिकारक है क्योंकि ठंडा पानी आपके भोजन के तैलीय पदार्थों को जो आपने अभी अभी खाये हैं ठोस रूप में बदल देता है। इससे पाचन बहुत धीमा हो जाता है। जब यह अम्ल के साथ क्रिया करता है तो यह टूट जाता है और जल्दी ही यह ठोस भोजन से भी अधिक तेज़ी से आँतों द्वारा सोख लिया जाता है। यह आँतों में एकत्र हो जाता है। फिर जल्दी ही यह चरबी में बदल जाता है और कैंसर के पैदा होने का कारण बनता है। 

इसलिए सबसे अच्छा यह है कि भोजन के बाद गर्म सूप या गुनगुना पानी पिया जाये। एक गिलास गुनगुना पानी सोने से ठीक पहले भी पीना चाहिए। इससे खून के थक्के नहीं बनेंगे और आप हृदयाघात से बचे रहेंगे। 

एक हृदय रोग विशेषज्ञ का कहना है कि यदि इस संदेश को पढ़ने वाला प्रत्येक व्यक्ति इसे १० लोगों को भेज दे, तो वह कम से कम एक जान बचा सकता है। 

*Dr. Naresh Trahan*
(HEART SPECIALIST)
Medanta Hospital 
Gurgaon HR

Forwarded Massage....

Friday, 19 May 2017

Indian mythology about Earth

कैसे आएगा प्रलय और होगा महाविनाश, ऐसे पता चल जाएंगे सही समय और लक्षण

Indian mythology
ऋग्वेद (नारदीयसूक्त) 10-129 में कहा गया है सृष्टि के आदिकाल में न सत्य था न असत्य न वायु थी न आकाश, न मौत थी और न अमरता, न रात थी न दिन, उस समय केवल वही एक था जो वायुरहित स्थिति में भी अपनी शक्ति से सांस ले रहा था। उसके अतिरिक्त कुछ नहीं था।
प्रलय क्या है
प्रलय का अर्थ होता है संसार का अपने मूल में हमेशा के लीन हो जाना। प्रकृति का ब्रह्म में लीन हो जाना ही प्रलय है। यह संपूर्ण ब्रह्मांड की प्रकृति कही गई है। जिस तरह पेड़, पौधे, प्राणी, मनुष्य, पितृ और देवताओं की उम्र निश्चित है, उसी तरह ब्रह्मांड की भी आयु है। इस धरती, सूर्य, चंद्र सभी की उम्र है। जब महाप्रलय होता है तो सारा ब्रह्मांड वायु की शक्ति से एक ही जगह खिंचाकर एकत्रित होकर नष्ट हो जाता है। सिर्फ ईश्वर ही विद्यमान रह जाते हैं। न ग्रह होते हैं, न नक्षत्र, न अग्नि, न जल, न वायु, न आकाश और न जीवन। फिर अनंत काल के बाद से नई सृष्टी आरभ हो जाती है।

आगेे पढ़ें- प्रलय से जुड़ी कुछ और रोचक बातें...


Indian mythology
पुराणों के अनुसार
पुराणों अनुसार हर वस्तु और व्यक्ति की सांसे निश्चित है। जब तक सांस चलेगी तब तक ही कोई वस्तु या व्यक्ति जिंदा रहेगा। वेद अनुसार जिंदा व्यक्ति ही नहीं बल्कि पूरा ब्रह्मांड सांस ले रहा है। सांसों से ही शरीर चल रहा है। छः सांस से एक विनाड़ी बनती है। साठ सांसों से एक नाड़ी बनती है साठ नाड़ियों से एक दिवस (दिन और रात्रि) बनते हैं। तीस दिवसों से एक महीना बनता है। एक नागरिक (सावन) मास सूर्योदयों की संख्याओं के बराबर होता है। एक चंद्र मास, उतनी चंद्र तिथियों से बनता है। एक सौर मास सूर्य के राशि में प्रवेश से निश्चित होता है। यानी सारी गतिविधियां सांसों से बनी है।



Indian mythology
कैसे होती है उत्पति और विनाश
गर्भकाल - गर्भकाल करोड़ों वर्ष पहले पूरी धरती जल में डूबी हुई थी। जल में ही तरह-तरह की वनस्पतियों का जन्म हुआ और फिर वनस्पतियों की तरह ही एक कोशीय बिंदु रूप जीवों की उत्पत्ति हुई, जो न नर थे और न मादा।
शैशव काल - फिर पूरी धरती जब जल में डूबी हुई थी तब जल अंदर अंडज, सरीसृप ,केवल मुख और पक्षी जैसे जीव पैदा हुए।
कुमार काल - इसके बाद कीटभक्षी, हाथ, पैर, नाक कान व हाथ पैर वाले युक्त जीवों की उत्पत्ति हुई। इनमें मानव रूप वानर, वामन, मानव आदि भी थे।
युवा काल - फिर कृषि, गाय पालने वाले, शासन करने वाले समाज संगठन की प्रक्रिया हजारों वर्षों तक चलती रही।
किशोर काल - इसके बाद भ्रमणशील, आखेटक, वन्य संपदाभक्षी, गुफा में रहने वाले, जिज्ञासु अल्पबुद्धि प्राणियों का विकास हुआ।
प्रौढ़ काल - वर्तमान में प्रौढ़ावस्था का काल चल रहा है, जो लगभग विक्रम संवत २०४२ से पहले शुरू हुआ माना जाता है। इस काल में अतिविलासी, दयाहीन, चरित्रहीन, लोलुप, मशीनों के अधीन रहने वाले लोग होंगे जो प्रकृति को नुकसान पहुंचाएंगे ।
जीर्ण काल - आने वाले समय में अन्न, जल, वायु, ताप सबका अभाव होगा और धरती पर जीवों का विनाश होगा।
उपराम काल - इसके बाद करोड़ों वर्षों आगे तक ऋतु अनियमित, सूर्य, चन्द्र, मेघ सभी विलुप्त होंगे। भूमि पर आग ही आग हो जाएगी। अकाल और प्रकृति प्रकोप के बाद ब्रह्मांड में प्रलय होगा।


Indian mythology
कब होगा सृष्टि में प्रलय

सूर्य सिद्धांत के अनुसार समय का सबसे छोटा मापन तृसरेणु होता है। उससे बड़ा त्रुटि। उससे बड़ा वेध। उससे बड़ा लावा। उससे बड़ा निमेष। उससे बड़ा क्षण। उससे बड़ा काष्ठा। उससे बड़ा लघु। उससे बड़ा दण्ड। उससे बड़ा मुहूर्त। उससे बड़ा याम। उससे बड़ा प्रहर। प्रहर से बड़ा दिवस। दिवस से बड़ा अहोरात्रम। उससे बड़ा पक्ष (कृष्ण पक्ष, शुक्ल पक्ष)। पक्ष से बड़ा मास। दो मास मिलकर एक ऋतु। ऋतु से बड़ा अयन। अयन से बड़ा वर्ष। वर्ष से बड़ा दिव्य वर्ष (देवताओं का वर्ष)। उससे बड़ा युग। चार युग मिलाकर महायुग। महायुग से बढ़ा मन्वन्तर। उससे भी बढ़ा कल्प और सबसे बड़ा ब्रह्मा का दिन और आयु। प्रत्येक कल्प के अंत में एक प्रलय होता है, यानी चार युगों के चक्रांत में धरती पर से जीवन समाप्त हो जाता है। एक कल्प को चार अरब बत्तीस करोड़ मानव वर्षों के बराबर का माना गया है। यह ब्रह्मा के एक दिन के बराबर है। चार अरब वर्ष पूर्व जीवन की उत्पत्ति मानी गई है। दो कल्पों को मिलाकर ब्रह्मा की एक दिन और रात्रि मानी गई है। यानी 259,200,000,000 वर्ष। ब्रह्मा के बारह मास से उनका एक वर्ष बनता है और सौ वर्ष ब्रह्मा की आयु होती है