Wednesday, 17 January 2018

Indian culture

पिछले दिनों Gurgoan जाना हुआ । 
वहां एक मित्र के घर रुका । उनकी छोटी बहन अमरीका में रहती हैं । छुट्टियों में घर आई हुई थीं ।
 बातों बातों में बताने लगी कि 
*अमरीका में बहुत गरीब मजदूर वर्ग McDonald , KFC और Pizza Hut का burger पिज़्ज़ा और chicken खाता है ।*
 

अमरीका और Europe के रईस धनाढ्य करोड़पति लोग *ताज़ी सब्जियों उबाल के खाते हैं ,*
ताज़े गुंधे आटे की गर्मा गर्म bread/रोटी खाना बहुत बड़ी luxury है ।
 
ताज़े फलों और सब्जियों का Salad वहां नसीब वालों को नसीब होता है ........ 
ताजी हरी पत्तेदार सब्जियां अमीर लोग ही Afford कर पाते हैं । 

गरीब लोग Packaged food खाते हैं । 
हफ़्ते / महीने भर का Ration अपने तहखानों में रखे Freezer में रख लेते हैं और उसी को Micro Wave Oven में गर्म कर कर के खाते रहते हैं ।

आजकल भारतीय शहरों के नव धनाढ्य लोग 
*अपने बच्चों का हैप्पी बड्डे मकडोनल में मनाते हैं ।*
 उधर अमरीका में कोई ठीक ठाक सा मिडल किलास आदमी McDonalds में अपने बच्चे का हैप्पी बड्डे मनाने की सोच भी नही सकता ......... 
लोग क्या सोचेंगे ?
 इतने बुरे दिन आ गए ? *इतनी गरीबी आ गयी कि अब बच्चों का हैप्पी बड्डे मकडोनल में मनाना पड़ रहा है ?*

भारत का गरीब से गरीब आदमी भी ताजी सब्जी , ताजी उबली हुई दाल भात खाता है ......... 
ताजा खीरा ककड़ी खाता है।
 अब यहां गुलामी की मानसिकता हमारे दिल दिमाग़ पे किस कदर तारी है ये इस से समझ लीजिये कि
 *Europe अमरीका हमारी तरह ताज़ा भोजन खाने को तरस रहा है और हम हैं कि Fridge में रखा बासी packaged food खाने को तरस रहे हैं ।*

 अमरीकियों की Luxury जो हमें सहज उपलब्ध है हम उसे भूल *उनकी दरिद्रता अपनाने के लिए मरे जाते हैं ।*

ताज़े फल सब्जी खाने हो तो फसल चक्र के हिसाब से दाम घटते बढ़ते रहते है ।

इसके विपरीत डिब्बाबंद Packaged Food के दाम साल भर स्थिर रहते है बल्कि समय के साथ सस्ते होते जाते हैं । 
जस जस Expiry date नज़दीक आती जाती है , डिब्बाबंद भोजन सस्ता होता जाता है और एक दिन वो भी आ जाता है कि Store के बाहर रख दिया जाता है , 
*लो भाई ले जाओ , मुफ्त में।*
 हर रात 11 बजे Stores के बाहर सैकड़ों लोग इंतज़ार करते हैं ....... 
*Expiry date वाले भोजन का।*

125 करोड़ लोगों की विशाल जनसंख्या का हमारा देश आज तक किसी तरह ताज़ी फल सब्जी भोजन ही खाता आया है ।
*ताज़े भोजन की एक तमीज़ तहज़ीब होती है । ताज़े भोजन की उपलब्धता का एक चक्र होता है । ताज़ा भोजन समय के साथ महंगा सस्ता होता रहता है।*

 आजकल समाचार माध्यमों में टमाटर और हरी सब्जियों के बढ़ते दामों के लेकर जो चिहाड़ मची है 
*वो एक गुलाम कौम का विलाप है ........* 
जो अपनी ऐतिहासिक सांस्कृतिक विरासत को भूल अपनी गुलामी का विलाप कर रही है ।

*भारत बहुत तेज़ी से ताजे भोजन की समृद्धि को त्याग डिब्बेबन्द भोजन की दरिद्रता की ओर अग्रसर है।*

मित्रों इस पोस्ट को हर हिंदुस्तानी के 
*मोबाइल और मन मष्तिष्क* में पहुँचा दो

Tuesday, 16 January 2018

Lalu in Jail update

एक बार एक प्रदेश के C.M और विपक्ष के नेता साथ साथ दौरे पर निकले ।
सबसे पहले एक जेल पड़ी,
उसका मुआयना किया और जेलर से पूछा कितनी ग्रांट चाहिए ?
जेलर- कुछ विशेष नहीं सर, सब ठीक चल रहा है ।
C.M- फिर भी । 
जेलर - अगर आप देना ही चाहते हैं, तो 5 lakh रुपये दे दीजिए ।
P.A ने नोट किया । 

दोनों लोग आगे बढ़े तो एक स्कूल पड़ा,
वहाँ जा कर प्रिन्सिपल से भी वही बात पूछी । 
प्रिन्सिपल लगे रोने और कहा कि सर ना तो स्टाफ़ है और ना ही संसाधन ।
विद्यालय भवन भी जर्जर है,
ना फ़र्नीचर और ना ही लैब में सामान है । 
C.M ने डाँटा, ठीक है, रो मत
बताओ कितनी ग्रांट चाहिए ?
प्रिन्सिपल - कम से कम 50 lakh

P.A ने नोट किया ।
दोनो नेता राजधानी वापस आ गये ।

अगले दिन C.M ने जेल को 50 lakh और स्कूल को 5 lakh जारी कर दिया ।
इस पर विपक्ष के नेता ने नाराज़ होते हुए कहा कि आपने तो उलटा कर दिया । 
तब C.M ने कहा कि अगर तुम्हारे पास इतनी ही अक़्ल होती तो आज तुम मेरी कुर्सी पर होते । 

विपक्ष के नेता - मतलब ? 

C.M - अरे यार स्कूल ना हमको जाना है ना तुमको जाना है ,
पर जेल हमको भी जाना है और जेल तुमको भी जाना है । 
इसलिये वहां सारी सुविधायें होना जरूरी है ।।

*लालू जी को समर्पित*

*रांची जेल का उद्घाटन लालू ही किये थे*

स्वयम पर श्रद्धा रखो!

🌿 *स्वयम पर श्रद्धा रखो! तभी दूसरे पर रख पाओगे!!*🌿

लोगों के जीवन प्रेम से रिक्त हैं, क्योंकि कोई भी स्वयं पर श्रद्धा नहीं करता है!

स्वयं पर श्रद्धा करना शुरू करो -- यह पहला पाठ है जो व्यक्ति को सीखना चाहिए। स्वयं को प्रेम करना शुरू करो! यदि तुम स्वयं को प्रेम नहीं कर सकते तो भला और कौन करेगा? 

लेकिन यह भी याद रखो कि यदि तुम सिर्फ स्वयं को ही प्रेम करोगे तो तुम्हारा प्रेम बहुत गरीब होगा।

हिलेल ने कहा है, "यदि तुम ही स्वयं के लिए नहीं हो, तो फिर तुम्हारे लिए कौन होगा?" और यह भी कहा है, "यदि तुम केवल अपने ही लिए हो तो तुम्हारे जीवन का क्या अर्थ रह जायेगा?"

याद रखो: स्वयं को प्रेम करो, क्योंकि यदि तुम स्वयं को प्रेम नहीं करते तो कोई और तुम्हें कभी भी प्रेम नहीं कर पायेगा! जो व्यक्ति स्वयं से घृणा करता हो, उसे भला कैसे प्रेम किया जा सकता है?

और इस अभागी पृथ्वी पर लगभग सभी स्वयं को घृणा करते हैं, सभी स्व-निंदा से भरे हैं!

             

मास्टर_तो_मास्टर_होवे

#मास्टर_तो_मास्टर_होवे 😜😂

एक मास्टर जी के घर मे 7-8 मास्टर मेहमान आ गए...

मास्टर जी की बीवी बोली, "घर मे चीनी नहीं है, चाय कैसे बनाऊँ?"

मास्टर ने कहा, तुम सिर्फ चाय बनाकर ले आओ, बाकी मै सम्भाल लूंगा ".

बीवी चाय बनाकर ले आई।
मास्टरजी ने कहा," जिस के हिस्से में फिकी चाय आएगी, कल हम सब उनके घर मेहमान बनकर खाने के लिए आएंगे "

सभी मास्टरों ने खुशी से चाय पी ली। एक ने तो यहाँ तक कह दिया, "मेरी चाय मे तो इतनी चीनी है,कि डर है कहीं डायबिटीज ना हो जाए......!!!
🙄🙄😂😂😜😜😜😋😜😂

भीतर के "मैं" का मिटना ज़रूरी है!

भीतर के "मैं" का मिटना ज़रूरी है!

सुकरात समुन्द्र तट पर टहल रहे थे। उनकी नजर तट पर खड़े एक रोते बच्चे पर पड़ी। वो उसके पास गए और प्यार से बच्चे के सिर पर हाथ फेरकर पूछा, तुम क्यों रो रहे हो? लड़के  ने  कहा यह जो मेरे हाथ में प्याला है मैं उसमें इस  समुन्द्र को भरना चाहता हूँ पर यह मेरे प्याले में समाता ही नहीं। बच्चे की बात सुनकर सुकरात विस्माद में चले गये और स्वयं भी रोने लगे। अब पूछने की बारी बच्चे की थी। बच्चा कहने लगा- आप भी मेरी तरह रोने लगे पर आपका प्याला कहाँ है? सुकरात  ने  जवाब  दिया बालक, तुम छोटे से प्याले में समुन्द्र भरना चाहते  हो, और मैं अपनी छोटी सी बुद्धि में सारे संसार की जानकारी भरना चाहता  हूँ। आज तुमने  सिखा दिया कि समुन्द्र प्याले में नहीं समा सकता है, मैं व्यर्थ ही बेचैन रहा यह सुनके बच्चे ने प्याले को दूर समुन्द्र  में फेंक दिया और बोला "सागर अगर  तू मेरे प्याले में नहीं समा सकता तो मेरा  प्याला तो तुम्हारे में समा सकता  है। इतना सुनना था कि सुकरात बच्चे  के पैरों में गिर पड़े और बोले- बहुत  कीमती सूत्र हाथ में लगा है। हे परमात्मा! आप तो सारा का सारा मुझ में नहीं समा सकते हैं पर मैं तो सारा का  सारा आपमें लीन हो सकता हूँ। ईश्वर की खोज में भटकते सुकरात को ज्ञान देना था तो भगवान उस बालक में समा गए। सुकरात का सारा अभिमान ध्वस्त कराया। जिस सुकरात से मिलने को सम्राट समय लेते थे वह सुकरात एक बच्चे के चरणों में लोट गए थे।
ईश्वर जब आपको अपनी शरण में लेते हैं तब आपके अंदर का "मैं" सबसे पहले  मिटता है। या यूँ कहें *जब आपके अंदर का "मैं" मिटता है तभी ईश्वर की कृपा होती है।*

Sunday, 14 January 2018

Best Modi ji Tricks

*मोदी ने जबर्दस्त कीटनाशक डाला है बिलों में...*
*अब तो सुप्रीम कोर्ट तक से कीड़े बाहर निकल रहे हैं*
*हराम के बांटे गए अवार्ड वापस आ गए अब हराम के बनाए गए जज भी बाहर आ रहे है*
*लोकतंत्र नही तुम्हारा बाप खतरे में हैं*

Congress in Danger

पहले काँग्रेस का एक उपराष्ट्रपति  हामिद अंसारी जाते जाते यह कह गया कि इस देश का मुस्लिम खतरे में है,
और आज काँग्रेस कि पैदावार के चार जज भी यही कह रहे हैं कि इस  का लोकतंत्र खतरे में हैं....
अरे इस देश में ना मुस्लिम खतरे में है ना लोकतंत्र खतरे मे है
 अगर कोई खतरे मे है तो वो है इस देश कि काँग्रेस खतरे में है.....

Inside the Supreme Court fight

जस्टिस जे. चेलमेस्वर
जस्टिस कूरियन जोसेफ
जस्टिस रंजन गोगोई 
जस्टिस मेदान लोकूर......
कांग्रेस के हमदर्द,  वामपंथी सोच वाले इन मिलार्डों से 1984 के दंगों में मारे गए हजारों निर्दोष सिखों पर कोई फैसला नहीं हो पाया.
समय के साथ यह मामला ठंढे बस्ते में जाने वाला था कि जस्टिस दीपक मिश्रा ने इस केस को दुबारा खोलने का आदेश दे दिया.
और यही बात इन मामनीयों से हजम नहीं हो रही.
गौरतलब है कि 84 के दंगे कांग्रेसीयों के पाप की वो दास्तान है कि यदि सही न्याय हो जाय तो पता नहीं कितने कांग्रेसी नेता जेल के अंदर हों .
संविधान की अवहेलना करते हुए इन चारणभाटों ने गांधी परिवार के दलाल और कुख्यात वामपंथी पत्रकार शेखर गुप्ता की अगुवाई में प्रेस वार्ता बुलाई और देश को खतरे में बता कर एक कांग्रेसी नेता डी राजा के साथ गुप्त मिटिंग पर चले गए.
मामला साफ हो गया है कि न्यायालय भी अवार्ड लौटाऊ गैंग का ही एक हिस्सा है.
वहां भी स्वच्छता अभियान चलाया जाना चाहिए.

Tuesday, 9 January 2018

Regular practice

*गिद्धों का एक झुण्ड खाने की तलाश में भटक रहा था।*

उड़ते – उड़ते वे एक टापू पे पहुँच गए। 

वो जगह उनके लिए स्वर्ग के समान थी। 

हर तरफ खाने के लिए मेंढक, मछलियाँ और समुद्री जीव मौजूद थे 

और 

इससे भी बड़ी बात ये थी कि... 

वहां इन गिद्धों का शिकार करने वाला कोई जंगली जानवर नहीं था 

और वे बिना किसी भय के वहां रह सकते थे।

युवा गिद्ध  कुछ ज्यादा ही उत्साहित थे, उनमे से एक बोला, 

" वाह ! मजा आ गया, अब तो मैं यहाँ से कहीं नहीं जाने वाला, यहाँ तो बिना किसी मेहनत के ही हमें बैठे -बैठे खाने को मिल रहा है!"

बाकी गिद्ध भी उसकी हाँ में हाँ मिला ख़ुशी से झूमने लगे।

सबके दिन मौज -मस्ती में बीत रहे थे 

लेकिन झुण्ड का सबसे बूढ़ा गिद्ध इससे खुश नहीं था।

एक दिन अपनी चिंता जाहिर करते हुए वो बोला, 

*" भाइयों, हम गिद्ध हैं, हमें हमारी ऊँची उड़ान और अचूक वार करने की ताकत के लिए जाना जाता है।*

पर जबसे हम यहाँ आये हैं हर कोई आराम तलब हो गया है …

*ऊँची उड़ान तो दूर ज्यादातर गिद्ध तो कई महीनो से उड़े तक नहीं हैं…*

और आसानी से मिलने वाले भोजन की वजह से अब हम सब शिकार करना भी भूल रहे हैं … 

ये हमारे भविष्य के लिए अच्छा नहीं है …

*मैंने फैसला किया है कि मैं इस टापू को छोड़ वापस उन पुराने जंगलो में लौट जाऊँगा …*

अगर मेरे साथ कोई चलना चाहे तो चल सकता है !"

बूढ़े गिद्ध की बात सुन बाकी गिद्ध हंसने लगे। 

किसी ने उसे पागल कहा तो कोई उसे मूर्ख की उपाधि देने लगा। 

बेचारा बूढ़ा गिद्ध अकेले ही वापस लौट गया।

समय बीता, 

कुछ वर्षों बाद बूढ़े गिद्ध ने सोचा, 

" ना जाने मैं अब कितने दिन जीवित रहूँ, क्यों न एक बार चल कर अपने पुराने साथियों से मिल लिया जाए!"

*लम्बी यात्रा के बाद जब वो टापू पे पहुंचा तो वहां का दृश्य भयावह था।*

ज्यादातर गिद्ध मारे जा चुके थे और जो बचे थे वे बुरी तरह घायल थे।

"ये कैसे हो गया ?", बूढ़े गिद्ध ने पूछा।

कराहते हुए एक घायल गिद्ध बोला, 

"हमे क्षमा कीजियेगा, हमने आपकी बातों को गंभीरता से नहीं लिया और आपका मजाक तक उड़ाया … 

दरअसल, आपके जाने के कुछ महीनो बाद एक बड़ी सी जहाज इस टापू पे आई …

और चीतों का एक दल यहाँ छोड़ गयी। 

चीतों ने पहले तो हम पर हमला नहीं किया, 

पर ................

*जैसे ही उन्हें पता चला कि हम सब न ऊँचा उड़ सकते हैं और न अपने पंजो से हमला कर सकते हैं…*

उन्होंने हमे खाना शुरू कर दिया। 

अब हमारी आबादी खत्म होने की कगार पर है .. 

बस हम जैसे कुछ घायल गिद्ध ही ज़िंदा बचे हैं !"

बूढ़ा गिद्ध उन्हें देखकर बस अफ़सोस कर सकता था, वो वापस जंगलों की तरफ उड़ चला।

दोस्तों, 

*अगर हम अपनी किसी शक्ति का उपयोग नहीं करते तो धीरे-धीरे हम उसे  गँवा देते हैं।*

जैसे की अगर हम अपने दिमाग का उपयोग नहीं करते तो उसकी sharpness घटती जाती है, 

अगर हम अपनी muscles का उपयोग नही करते तो
उनकी ताकत घट जाती है… 

इसी तरह अगर हम अपनी skills को polish नहीं करते तो हमारी काम करने की क्षमता कम होती जाती है!

*तेजी से बदलती इस दुनिया में हमें खुद को बदलाव के लिए तैयार रखना चाहिए।* 

पर ...................

*बहुत बार हम अपनी current job या business में इतने comfortable हो जाते हैं कि बदलाव के बारे में सोचते ही नहीं |*

और अपने अन्दर कोई नयी skills add नहीं करते, 

अपनी knowledge बढ़ाने के लिए कोई किताब नहीं पढ़ते 

कोई training program नहीं attend करते, 

यहाँ तक की हम उन चीजों में भी dull हो जाते हैं जिनकी वजह से कभी हमे जाना जाता था 

और फिर जब market conditions change होती हैं 

और 

हमारी नौकरी या बिज़नेस पे आंच आती है तो हम हालात को दोष देने लगते हैं।

ऐसा मत करिए…

अपनी काबिलियत, अपनी ताकत को जिंदा रखिये…

*अपने कौशल, अपने हुनर को और तराशिये…*

उसपे धूल मत जमने दीजिये…

और 

*जब आप ऐसा करेंगे तो बड़ी से बड़ी मुसीबत आने पर भी आप ऊँची उड़ान भर पायेंगे!*🙏

जो इक्छा कर ही मन माही

हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे 
हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे

जो इक्छा कर ही मन माही
प्रभू कृपा कछु दुर्लभ नही

एक बाद नारद जी ने भगवान से प्रश्न किया कि प्रभु आपके भक्त गरीब क्यों होते हैं? 
तो भगवान बोले - "नारद जी ! मेरी  कृपा को समझना बड़ा कठिन है।" इतना कहकर भगवान नारद के साथ साधु भेष में पृथ्वी पर पधारे और एक सेठ जी के घर भिक्षा मांगने के लिए दरवाजा खटखटाने लगे। सेठ जी बिगड़ते हुए दरवाजे की तरफ आए और देखा तो दो साधु खड़े हैं।
भगवान बोले - "भैया ! बड़े जोरों की भूख लगी है। थोड़ा सा खाना मिल जाए।"
सेठ जी बिगड़कर बोले "तुम दोनों को शर्म नहीं आती। तुम्हारे बाप का माल है ? कर्म करके खाने में शर्म आती है, जाओ-जाओ किसी होटल में खाना मांगना।"
नारद जी बोले - "देखा प्रभु ! यह आपके भक्तों और आपका निरादर करने वाला सुखी प्राणी है। इसको अभी शाप दीजिये।" नारद जी की बात सुनते ही भगवान ने उस सेठ को अधिक धन सम्पत्ति बढ़ाने वाला वरदान दे दिया।
इसके बाद भगवान नारद जी को लेकर एक बुढ़िया मैया के घर में गए। जिसकी एक छोटी सी झोपड़ी थी, जिसमें एक गाय के अलावा और कुछ भी नहीं था। जैसे ही भगवान ने भिक्षा के लिए आवाज लगायी, बुढ़िया मैया बड़ी खुशी के साथ बाहर आयी। दोनों सन्तों को आसन देकर बिठाया और उनके पीने के लिए दुध लेकर आयीं और बोली - "प्रभु ! मेरे पास और कुछ नहीं है, इसे ही स्वीकार कीजिये।"
भगवान ने बड़े प्रेम से स्वीकार किया। तब नारद जी ने भगवान से कहा - "प्रभु ! आपके भक्तों की इस संसार में देखो कैसी दुर्दशा है, मेरे पास तो देखी नहीं जाती। यह बेचारी बुढ़िया मैया आपका भजन करती है और अतिथि सत्कार भी करती है। आप इसको कोई अच्छा सा आशीर्वाद दीजिए।"
भगवान ने थोड़ा सोचकर उसकी गाय को मरने का अभिशाप दे डाला।"  यह सुनकर नारद जी बिगड़ गए और कहा - "प्रभु जी ! यह आपने क्या किया ?"
भगवान बोले - "यह बुढ़िया मैया मेरा बहुत भजन करती है। कुछ दिनों में इसकी मृत्यु हो जाएगी और मरते समय इसको गाय की चिन्ता सताएगी कि मेरे मरने के बाद मेरी गाय को कोई कसाई न ले जाकर काट दे, मेरे मरने के बाद इसको कौन देखेगा ? 
तब इस मैया को मरते समय मेरा स्मरण न होकर बस गाय की चिन्ता रहेगी और वह मेरे धाम को न जाकर गाय की योनि में चली जाएगी।" 
उधर सेठ को धन बढ़ाने वाला वरदान दिया कि मरने वक़्त धन तथा तिजोरी का ध्यान करेगा और वह तिजोरी के नीचे साँप बनेगा।
प्रकृति का नियम है जिस चीज मे अति लगाव रहेगा यह जीव मरने के बाद बही जनम लेता है ओर बहुत दुख भोगता है 
अतः अपना चिंतन प्रभू की तरफ अधिक रखे 

हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे 
हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे