Wednesday, 29 April 2015

मुंबई के पंडित अमेरिका में जॉब करते थे

मुंबई के पंडित  अमेरिका में जॉब करते थे तथा चार साल से भारत नहीं जा सके थे l
एक दिन पंडित ऑफिस में अपने सहकर्मियों को बाप बनने की ख़ुशी में मिठाई बांटने लगे l
एक सहकर्मी ने पूछा : " पंडित जी आप चार साल से यहाँ और आपकी वाइफ मुंबई में, तो फिर आप बाप बने कैसे ?
पंडित जी : "मेरे पडोसी भोत ख्याल रखते हैं वाईफ की "
सहकर्मी : " क्या नाम सोचा है बच्चे का "
पंडित जी: " देखो वो बीवी से पूछकर सोचना पडेगा l
अगर सेकण्ड फ्लोर वाले पडोसी ने वाइफ की देखभाल की है तो बच्चे का नाम द्विवेदी रखेंगे , लेकिन अगर तीसरे, चौथे या पांचवे फ्लोर वाले ने देखभाल की है तो उसी हिसाब से त्रिवेदी, चतुर्वेदी या पाण्डेय रखेंगे l "
सहकर्मी : " अगर सबने मिलकर ख्याल रखा है तो ?"
पंडित जी : " तो मिश्रा रखेंगे "
सहकर्मी :" अगर भाभीजी ने शरमाकर नाम ना बताया तो , "
पंडित जी : " फिर तो जरुर शर्मा जी ने देखभाल की होगी , फिर तो बच्चे का नाम शर्मा होगा "
सहकर्मी : " अगर भाभी जी ने किसी का नाम नहीं बताया तो ? "
पंडित जी : " फिर तो गुप्ता होगा "
सहकर्मी : " अगर भाभी जी को याद ना आया तो ? "
पंडित जी : " फिर तो यादव का काम होगा , बच्चे का नाम यादव रख लेंगे "
सहकर्मी : "अगर किसी ने भाभी जी के साथ जबरदस्ती किया होगा तो ?
पंडित जी : ऐसी नीच हरकतें सुशिल दोषी ही कर सकता है , बच्चे का नाम दोषी रखना पडेगा " "
सहकर्मी : "अगर भाभी जी ने ही अपनी भूख मिटाने के लिए किसी मर्द को जोश दिलाया हो तो ?"
पंडित जी : " तो बच्चे का नाम जोशी रख लेंगे "
सहकर्मी : "साले हरामखोर, बेगैरत, सूअर की औलाद ... ,, भाभी को यहाँ बुला,
ऑफिस के हम दस स्टाफ मिलकर देखभाल करेंगे और कमीने तू अपने बच्चे का नाम देशपांडे रख ले l

No comments:

Post a Comment