Saturday, 23 May 2015

जीन्स पहन कर मैं जब तैयार होता,

जीन्स पहन कर मैं जब
तैयार होता,
उठा के मोबाइल बाईक पे
सवार होता,
देखते लोग छत पे खड़े
होकर;
;और कहते हैं काश ये छोरा
हमारी छोरी का यार
होता!!!
��������������

No comments:

Post a Comment