Tuesday, 5 May 2015

🐙🐍आपको मिर्ची लगे इसका पूरा इंतजाम है, पढ़िएगा जरूर🐒🐊

🐙🐍आपको मिर्ची लगे इसका पूरा इंतजाम है, पढ़िएगा जरूर🐒🐊


📢मन की पीड़ा सहन के बाहर हुई है. जली-कटी कहने आया हूं, आपको अंदर तक चुभने वाली बात कहने आया हूं. सबसे ज्यादा मूर्खता कहां है, यह सोचता हूं तो सबसे पहले ख्याल आता है सनातन मानने वाले उन मूर्खों पर जो इसको फॉरवर्ड करो, वहां भेजो, तो यह हो जाएगा, नहीं भेजा तो वह हो जाएगा. एक इंजीनियर ने ऐसा इंजेक्शन बना दिया है कि गौमाता की हत्या करने वाले के तत्काल प्राण निकल जाएंगे.
📢अपने धर्म के अतीत की ओर देखता हूं तो हनुमान चालीसा में सूर्य और पृथ्वी के बीच की दूरी का करीब-करीब सही आंकलन देखकर गर्व होता है. अगस्त्य मुनि के जन्म की कथा पढ़कर गर्व होता है कि हमारे पूर्वजों को टेस्टट्यूब बेबी पैदा करने का ज्ञान हजारों साल पहले से था. महर्षि च्यवन के शीश को फिर से शरीर से जोड़ने की बातें भागवत में सुनता हूं तो अद्भुत शल्य चिकित्सा पर अभिमान होता है. च्यवन, चरक, धन्वंतरि और न जाने कितने नाम गिना सकता हूं.
📢वायुयान, टेलीविजन और इंटरनेट के कॉन्सेप्ट सनातन में बहुत पहले से थे. रामसेतु के प्रमाण मिल रहे हैं. आज नासा के शोध हमारी चीजों को सत्य मान रहे हैं किंतु सनातन के उन मूर्खों का क्या करूं जो इस पोस्ट को शेयर करो तो यह हो जाएगा, नहीं भेजा तो वह हो जाएगा. इंजीनियर ने मशीन की जगह इंजेक्शन बनाया. तुम तो मूर्ख ही पैदा हुए, मूर्ख ही मरोगे, अपने पूर्वजों का उपहास क्यों करा रहे हो.
📢श्रीकृष्ण और श्रीराम सर्वसमर्थ थे लेकिन उन्होंने संदेश दिया कि कर्म करना पड़ेगा. अपनी लड़ाई स्वयं लड़नी पड़ेगी. सोमनाथ मंदिर को गजनी से कुछ सौ लुटेरे लूट रहे थे और दस हजार से ज्यादा लोग रुद्राष्टकम का पाठ करके रक्षा के लिए महादेव को पुकार रहे थे. महादेव ने उन्हें भुजाएं दी थीं लेकिन वह तो चाहते थे कि स्वयं महादेव ही आकर लड़ें. वे गीता का ज्ञान भूल रहे थे कि कर्म तो आपको करने पड़ेंगे. ईश्वर सिर्फ सहायक बनेंगे. श्रीकृष्ण चाहते तो पलभर में दुष्टों का अंत कर सकते थे, किंतु उन्होंने शस्त्र न उठाने का प्रण कर लिया. इससे कोई सीखता ही नहीं. यदि नहीं सीखना तो कम से कम मूर्खता तोह रोको whatasapp के सूरमाओं

No comments:

Post a Comment