Wednesday, 13 May 2015

कुछ ठहरे हुए जज्बातो को बेताब करती है वो..



कुछ ठहरे हुए जज्बातो को बेताब करती है वो..

जब मेहन्दी वाले हाथो से आदाब करती है वो

No comments:

Post a Comment