Saturday, 23 May 2015

तीन दोस्त एक ऊंची ईमारत की सौवीं मंजिल पर रहते थे।

तीन दोस्त एक ऊंची ईमारत की
सौवीं मंजिल पर रहते थे।

एक दिन बेचारे कामसे घर लौटे
तो लिफ्ट काम नहीं कर रही थी।

दोस्तों ने सीढ़ियों से ऊपर जाने
का फैसला किया

पहली 50 मंजिलों तक एक दोस्त ने
एक्शन फिल्म की स्टोरी सुनाई
और समय कट गया। इसके बाद 99वीं
मंजिल तक दूसरे दोस्त ने एक
रोमांटिक फिल्म की स्टोरी सुनाई...

लेकिन 100वीं मंजिल पर फ्लैट के बाहर
तीसरे दोस्त ने सिर्फ एक लाइन सुनाई
कि तीनों की आंख में आंसू आ गए...
.
.
.
उसने कहा...
.
.
.
.
.
.
.
.
मै फ्लैट की चाबी कार में
ही भूल आया हूं।
��������������

No comments:

Post a Comment