Thursday, 19 May 2016

Best whatsapp thought

जितनी भीड़ बढ़ रही है जमाने में । लोग उतने ही अकेले होते जा रहे हैं ।।
बडी हसरत से पटक पटक के गुजर गई, कल शाम मेरे शहर से आंधी! !!!!!!
वो पेड आज भी मुसकुरा रहे है, जिन्हे हुनर था थोडा झुक जाने का।।।

No comments:

Post a Comment