Friday, 19 August 2016

The art of Management

_The art of Management_👌

_पत्नी~ रात का खाना आज बाहर करेगें,,,_

_पति(प्रबंधक)~ ठीक है!_

_पति~ हमें एक ठीक ठाक रेस्तरां में जाना चाहिए?_

_पत्नी~ नहीं, पांच सितारा  होटल में चलते हैं!_

_पति~ (एक मिनट के लिए मौन) ठीक है, 7.30 बजे देखते हैं,,,_

_रास्ते में,,, 7.00 बजे के आसपास!_

_पति~ एक बार, मैने अपने दोस्तों के साथ  गोलगप्पे की प्रतिस्पर्धा की थी, मैने 30  गोलगप्पे  खाये  और उन्हें हरा दिया,,,_

_पत्नी~ क्या यह कौन सा मुश्किल है?_

_पति~ मुझे  हराना बहुत मुश्किल है!!!_

_पत्नी~ मैं आसानी से आपको हरा सकती हुँ!_

_पति~ रहने दो, यह कोई चाय का कप नहीं है,,,_

_पत्नी~ हमसे प्रतियोगिता कर रहे हैं ठीक है, चलिये!!!_

_पति~ तो आप अपने आप को हारा हुआ देखना चाहती हैं???_

_पत्नी~ चलिये देखते हैं,,,_

_वे दोनों एक चाट स्टाल पर रुके, और खाना शुरू किया,,,_

_*30 गोलगप्पों के बाद पति ने खाना छोड़ दिया!!!*_

_पत्नी का भी पेट भर गया था, लेकिन उसने पति को हराने के लिए एक और खा लिया और चिल्लाई, "तुम हार गये!"_

_*बिल 70/- रुपये आया, और पत्नी वापस घर आते हुए शर्त जीतने की खुशी में खुश थी!*_

_*Morel of the story*_

_एक प्रबंधक का मुख्य उद्देश्य न्यूनतम निवेश के साथ कर्मचारी को संतुष्ट करना होता है!_

_*कम निवेश पर मजबूत वापसी सुनिश्चित*_

🎿🎿🎿🎿🎿🎿🎿🎿🎿🎿

No comments:

Post a Comment