Thursday, 27 April 2017

Sadhvi Pragya

👆👆👆
#साध्वी_प्रज्ञा   #धन्यवाद_नरेन्द्रमोदी

मित्रों कुछ साल पूर्व मैंने मुंबई हमलों की बरसी पर लिखे एक लेख मे "हेमंत करकरे" को यह लिखते हुए श्रधांजलि दी थी कि  "हेमंत करकरे जैसे कांग्रेसी दलाल को श्रद्धांजलि देने का तो मेरा कोई मन नहीं है मगर उनकी मृत्यु दुश्मन की गोलियों से हुई है अतः वो वीरगति प्राप्त हुए और उनको भी 26/11 की बरसी पर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।।"
लेकिन इस लाइन पर कई लोगों ने मेरी आलोचना की थी बहुत कुछ महान आत्मा के लोगों ने तो इसे अपने अहम का प्रश्न बना लिया था और गाली गलौज पर उतर आए मजबूरन उन्हें मुझे ब्लॉक करना पड़ा।

आज जब साध्वी प्रज्ञा रिहा हो गई है और उन्होंने अपने मुंह से हेमंत करकरे के ऊपर प्रश्न उठा दिया तो शायद उन महान आत्माओं को उत्तर मिल गया होगा और मेरी बात को प्रमाणिकता भी। हर कोई जानता है कि कांग्रेस के जमाने में जब IM द्वारा हो रहे लगातार बम विस्फोटों में मुसलमानों का नाम आया और मुस्लिम आतंकवाद की एक लहर सी चल पड़ी थी, उस समय कांग्रेस ने इस से ध्यान हटाने के लिए हिंदू आतंकवाद का कार्ड खेला... निर्दोष साधु-संतों को फर्जी केसों में फंसा कर "हिंदू आतंकवाद" शब्द को मीडिया के माध्यम से प्रचारित किया गया, जिससे कि कांग्रेस राज में हो रहे इस्लामिक आतंकवाद से ध्यान हटाया जा सके । इस संदर्भ में पूर्व गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे का "सैफरन टेररिज्म" वाला बयान प्रमुखता से मीडिया में छाया रहा।

मैं राजनैतिक और घुमावदार शब्दावली उपयोग नहीं करता। हमने मोदी सरकार को वोट दिया था उस समय साध्वी प्रज्ञा ठाकुर भी एक प्रमुख मुद्दा थी और आदरणीय इंद्रेश जी ने दिल्ली में बाकायदा एक कार्यक्रम कराया था, जिसमें साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के बहनोई जो कि उनका केस लड़ रहे थे एवं कांग्रेस के समय एनआईए द्वारा अवैध रूप से उठाए गए कुछ अन्य हिंदू भाइयों की माता, पिता,बहने,पत्नियां और परिवार वाले उपस्थित थे। मैं स्वयं भी दिल्ली में हुए उस आयोजन में उपस्थित था..आज मैं बिना लाग-लपेट यह बात कर सकता हूं कि, कांग्रेस की सरकार रहती तो साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अपनी बची हुई जिंदगी भी उसी जेल में घुट घुट के सड़के मर जाती।कांग्रेस में ऐसे ऐसे फर्जी केस साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के ऊपर लगाए थे कि मोदी सरकार आने के बाद भी 3 साल लग गए उन्हें जेल से बाहर निकालने में ...
जो लोग हिंदू हिंदू हिंदुत्व का नाम लेकर मोदी को दिन-रात कोसते रहते हैं,वह इस बात को ध्यान रखें कि यह मोदी ही है जिसके कारण साध्वी प्रज्ञा ठाकुर जेल से बाहर है और इसके लिए मैं मोदी और मोदी सरकार का कोटिशः धन्यवाद करता हूं.

अगर किसी को साध्वी प्रज्ञा ठाकुर पर होने वाले अत्याचार भूल गए हो तो उसकी एक छोटी सी बानगी आप को बता देता हूँ, हेमंत करकरे और उनके निर्देश पर एटीएस ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को 8 दिन तक अवैध रूप से अपनी कस्टडी में रखा । एक साध्वी का भगवा वस्त्र उतार लिया गया, साध्वी के मुंह में जबरिया मांस ठूसा  गया,साध्वी को निर्वस्त्र करके चमड़े की बेल्ट से मारा गया और तो और साध्वी को तोड़ने के लिए उनको जबरिया ब्लू फिल्म दिखाई गई साध्वी के शिष्य के सामने हेमंत करकरे के निर्देश पर साध्वी को नंगा करने का आदेश दिया गया जिससे कि वो टूट जाए और एनआईए के पक्ष में हिंदू आतंकवाद वाली थियरी के पक्ष में बयान दें।

मित्रों यह कांग्रेस का असली चरित्र। छोटी-छोटी बातों पर मोदी को कोसते हैं तब हमें यह भी याद रखना चाहिए की आज आप जितना भी समेट पाए हैं उसके पीछे अगर कोई एक वजह तो मोदी है। साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की रिहाई हमारी भावनाओं से जुड़ा हुआ मुद्दा था,हमारे अस्तित्व से जुड़ा हुआ मुद्दा था,हमारे स्वाभिमान से जुड़ा हुआ मुद्दा था और नरेंद्र मोदी जी को कोटिशः धन्यवाद जो उन्होंने एक निर्देश साध्वी को नया दिलाने की प्रक्रिया में सहयोग किया... जय श्री राम...आप सभी को बधाइयां..

आशुतोष की कलम से

No comments:

Post a Comment